Na Jaane Kaun Si Dua Ka Hua Asar Mila Safar Mein Tu - Pamela Jain | Lyrics | Mp3 Download

Title Name  - Humsafar Cast/Starring - Sayanto Modak & Priyanka Mitra Singer Name - Pamela Jain Lyric - Yash Eshwari Prin...

Baidyanath Ayurved Aushadhi ki Jankari

बैद्यनाथ आयुर्वेद 

यह एक आयुर्वेदिक औषधि का नाम है जो पूरी तरह से प्रकृति के तत्वों को मिलाकर बनाई जाती है  ,
इस औषधि के उपयोग से आप किसी भी तरह के रोग से छुटकारा पा सकते है ,

बैद्यनाथ के द्वारा बनाई गयी औषधि के नाम - 

धातु भस्म 

एलोपैथिक चिकित्सा में इंजेक्शन तुरंत फायदा करता है उसी प्रकार आयुर्वेदिक चिकित्सा में भस्म उस से भी अधिक फायदा करने वाली औषधि जो की सिध्द हो चुकी है।

रस - रसायन 

बैद्यनाथ द्वारा बनाई गयी द्रवित औषधि है जो की कई दुर्लभ जड़ी बूटियों को मिस्रः कर के बनाई जाती है , यदि आप किसी रोग से ग्रषित हैं तो आयुर्वेदिक दवाइयों का उपयोग करें।

गुग्गुल या बटी - गोलियां 

यह आयुर्वेदिक के जड़ी बूटियों से बनाई गयी गोली होती है जिसको चबाकर या कूटकर उपयोग करने से रोग से छुटकारा पाया जा सकता है , इसका उपयोग करने से पहले किसी वैध या हकीम से जानकारी अवश्य लें।

लौह - मण्डूर 

शरीर में रक्त का विशेष महत्त्व है रक्त की कमी से बहुत से रोग होते है लौह या मण्डूर देने से अग्निबुध होकर खून बढ़ता है और शरीर में नए जीवन का संचार होने लगता है।

पर्पटी 

पर्पटी कल्प से तभी पूरा लाभ हो सकता है जब वह संस्कारित पारद और गंधक द्वारा पूर्ण शास्त्रीय विधि से बनाई गयी हो। इसका उपयोग के लिए साधारण अन्न के साथ भोजन करते हुए लेते है।

चूर्ण 

जड़ी बूटियों को सुखाकर तथा महीन कूटकर चूर्ण बनाये जाते है चूर्ण को शीशियों में पैक करके लम्बे दिनों तक ख़राब होने से बचाया जा सकता है।

अवलेह - मोदक - पाक 

काढ़ा रस इत्यादि को दुबारा पकाकर गाढ़ा किया जाता है उसे अवलेह कहते है ,बैद्यनाथ में बने अवलेह और पाक कड़ी  को चाशनी में बनाये जाते है।  जिस से फफूंद, और किसी तरह की खराबी नहीं होती।

च्यवनप्राश अवलेह

अम्ल , मधुर, कषाय रसयुक्त त्रिदोष नाशक  संग्रहणी में लाभदायक , रक्तशोधक,रुचिकारक एवं स्मृति , ओजवर्धक रसायन है।

तैल 

बैद्यनाथ द्वारा तेल बनाये गए है जो दो तरह के उपयोग अनुसार हैं , 1 - केश तैल , 2 - औषधि तैल।
१ - केश तैल - बालों की मजबूती व सुन्दर बनाने के लिए आयुर्वेदिक तेल।
२ - औषधि तैल - रोग नाश करने के लिए सहायक सिद्ध हुए तेल जो पूर्ण आयुर्वेदिक है।

प्रवाही क्वाथ 

ये भी एक तरह का काढ़ा है जो बहुत गुणकारी होता है.

आसव - अरिष्ट 

क्वाथ और काढ़ो की प्रधानता है किन्तु इसे रोज तैयार करना पड़ता है जिसे शुद्ध द्रव्य हासिल करने में कठिनाइयां होती है इस झंझट से बचने के लिए आसव अरिस्ट को बनाया गया है। जो काढ़े के सामान होते है।

अंजन वर्ति सुरमा मंजन 

दांत तथा मसूड़े से जुडी परेशानियों तथा रोगो के उपचार के लिए आयुर्वेदिक दवाइयों द्वारा तैयार किया गया है , जिसके नियमित उपयोग से दांतों और मसूड़े को निरोग बनाये रहने में मदद करता है।

शरबत-अर्क-सिरके 

आयुर्वेद की दुनिआ में कई मधुर शरबत होते है जिसको पीने से तनाव , थकान इतय्दी से मुख्त हुआ जा सकता है।

और भी आयुर्वेदिक औषधि जो बैद्यनाथ द्वारा बनाये गए है जो की हमारे जीवन को किसी भी रोग से मुख्त करने में सक्षम होते है। ज्यादा से ज्यादा आयुर्वेदिक औषधि का ही उपयोग करे, अंग्रेजी दवाइयों से खुद को दूर रखे।



No comments:

Post a comment